Goddess from ethers!

A Woman's desire to conquer her way to freedom is evident in many ways. Aruna Varsani's recent excursion to Mt. Rwenzori is an inspiration for this poem.

Advertisements

The Cowardly Blow!

The ongoing abductions and killing of minorities in the name of religion are a slap on the face of humanity. This poem takes us through the journey of many young victims.

सतगुरू स्वरूप

सतगुरू एक लेता नया आकार एवं बनता अनेक से एक। चोला बदल कर आया फिर से गुरू। निरंकारी समुदाय की सतगुरू माता सविंदर हरदेव के देहांत पश्चात उनकी सुपुत्री के सहयोग भरे कुछ शब्द पेश हैं

एैसी वसीयत

एैसी एक वसीयत तुम कर जातीं नाम मेरे तुम्हारे गुन कर जातीं जिन से थी तुम्हारी पहचान एै मॉं मैं बस तेरे आँगन की एक हूँ क्यारी याद हैं आतीं बहुत ही मुझको बातें तुम्हारी वह प्यारी प्यारी जो थीं कभी सिखलाई तुमने उन बातों पर दिल जाता बलिहारी सिकीलधी