सतगुरू स्वरूप

सतगुरू एक लेता नया आकार एवं बनता अनेक से एक। चोला बदल कर आया फिर से गुरू। निरंकारी समुदाय की सतगुरू माता सविंदर हरदेव के देहांत पश्चात उनकी सुपुत्री के सहयोग भरे कुछ शब्द पेश हैं

Advertisements

You left us Once again!

With sadness in the heart We bid thee a farewell You followed the footsteps Of Babaji a bit too soon And left a second vacuum To our hurting hearts You are gone physically But shall live on forever in our thoughts

खटिया और कहानी

    दादी नानी की यह कहानी आँगन में जब बरसा पानी समेटा जा जल्दी से बिस्तर को खटिया तो थी भीग ही जानी रस्सी उसकी बदलनी ही थी हो चली थी बहुत ही पुरानी यादें समाई थी उस रस्सी पर नन्द भाभी की सुनी हर कहानी बोझ तले उन सब क़िस्सों के रस्सी ने … Continue reading खटिया और कहानी

We Shall miss from now on!

That beauteous face in pleasure and pain Has left many orphaned and departed The Almighty gave him all but a hundred years of service in this world that needed awareness of righting the wrongs that Humanity committed  And now HE rests in the lap of Heavenly Father HE who didn't forsake us all HE who was known as Dada J.P. Vaswani A tribute that cannot be justified in words For HE was the ONE unique being of God Who never claimed Himself to be God.

एैसी वसीयत

एैसी एक वसीयत तुम कर जातीं नाम मेरे तुम्हारे गुन कर जातीं जिन से थी तुम्हारी पहचान एै मॉं मैं बस तेरे आँगन की एक हूँ क्यारी याद हैं आतीं बहुत ही मुझको बातें तुम्हारी वह प्यारी प्यारी जो थीं कभी सिखलाई तुमने उन बातों पर दिल जाता बलिहारी सिकीलधी