सरमाया

उजाला करने वाले को देकर अपनी छाया वह नादान समझ बैठा ख़ुद को सरमाया बना कर बुत भगवान का मन्दिर के लिए वह अन्जान ख़ुद को समझ बैठा विधाता सिकीलधी

Conversion Code

The Late reverend Hindu Saint Dada J.P. Vaswani hugely emphasized to people to always remain true to their mother tongue and religion. He taught that if a person had not understood his own religion and got attracted to another then that person is not capable of following the other religion as well.

ईंसानियत

सो गई इंसानियत, दिन में रात हो गई  बेदर्दी की आज एक नई दास्तान हो गई खिन्न हुआ मन, हरकतों से बू आने लगी  घिनौनी शरारत एक, किसी की जान ले गई  जाग उठी हैवानियत, इब्तिदा अब हो गई  क्रूरता इतनी की, जी मिचलाने की हालत हो गई  दूजे को कहते हैं जानवर, पशुत्व प्रकीर्ति हो गई  तुमसे भले तो पशु, दुख … Continue reading ईंसानियत

अम्माँ का पुलाव

ईश्वर भी मुस्कुराए होंगे शायद सुनके ये ईश्वर का स्वर। अम्माँ ने अब चूल्हा बुझा कर, पुलाव मेज़ पर परोस दिया था। हम सब प्राणी भी पुलाव के उन सामग्रियों की ही तरह, अपना ही राग अलापते हैं और ईश्वर की कृपा भुला ख़ुद अपना ही गुण गाते हैं।

SCARS!

Anxiety disorders caused by wages dismissed, Furloughs, layoffs, paycuts like asps hissed. The heartache of workmates dearly missed, Pushed to virtual screens in zoom meeting trysts......