खटिया और कहानी

    दादी नानी की यह कहानी आँगन में जब बरसा पानी समेटा जा जल्दी से बिस्तर को खटिया तो थी भीग ही जानी रस्सी उसकी बदलनी ही थी हो चली थी बहुत ही पुरानी यादें समाई थी उस रस्सी पर नन्द भाभी की सुनी हर कहानी बोझ तले उन सब क़िस्सों के रस्सी ने … Continue reading खटिया और कहानी

Advertisements

एैसी वसीयत

एैसी एक वसीयत तुम कर जातीं नाम मेरे तुम्हारे गुन कर जातीं जिन से थी तुम्हारी पहचान एै मॉं मैं बस तेरे आँगन की एक हूँ क्यारी याद हैं आतीं बहुत ही मुझको बातें तुम्हारी वह प्यारी प्यारी जो थीं कभी सिखलाई तुमने उन बातों पर दिल जाता बलिहारी सिकीलधी

तेरी याद

लो फिर से चली आई धुंधली सी तेरी याद दिल करने लगा फ़रियाद पैरहन पे गिरे यूँ आॉंख से क़तरे ज्यूँ ऑंचल में आ गई बरसात तेरी याद दम लेने ना देती घायल रहता है दिल का हाल मेरी यह तड़प, ये बेचैनी देती रुसवाई, करती बदनाम लो फिर से चली आई धुंधली सी तेरी … Continue reading तेरी याद

मॉं से मायका (Maternal Home)

  मॉं है तो मायका भी है मॉं है तो मन महका भी है वह प्यार दुलार व दुआ की बहार वो घर बुलाने के बहाने हज़ार वो हर फ़रमाइश का पूरा करना वो घंटों बैठ कर बातें करना मॉं है तो मायका भी है मॉं है तो मन महका भी है वो मायके जाकर … Continue reading मॉं से मायका (Maternal Home)

CHETI CHAND FESTIVAL

The Hindu Sindhis celebrate Cheti Chand as their New year. Since the partition of India only a fraction of Sindhis remained in Sindh territory which came under Pakistan. Thousands of Sindhi families that were forced to abandon their abode during the partition of the country migrated to India and various other parts of the world. Since there is no state that belongs to this growing community, they are recognized as world citizens and have adapted themselves to respective cultures and continents. The uniting factor is their culture that marks Cheti Chand as their day of identity.

मॉं

  तेरे आँचल की छांव तले मॉं अनेकों लाल पले चाहे छोटे हों या बड़े तुझको सभ ही लगते भले ठोकर खाते, गिरते पढ़ते घबरा जाते जब हम ढर् से धूल भरा वो तेरा आँचल सहला जाता मॉं हर ग़म से अब जो हम परदेस आ बसे गर्दिशों की धूल तज कर फँसे याद तेरी … Continue reading मॉं

कमाऊ लाल

अब अपना बोझ वह तय कर लेगा, पुत्र है अब कमाऊ लाल, एक का ख़र्चा तो कम होगा, पुत्र जो बन गया कमाऊ लाल. बेटी के दहेज की कम हुई चिन्ता, कुछ मदद करेगा मेरा लाल, अब पेनशन अपनी बचत बनेगी, घर में है अब कमाऊ लाल.