सतगुरू स्वरूप

सतगुरू एक लेता नया आकार एवं बनता अनेक से एक। चोला बदल कर आया फिर से गुरू। निरंकारी समुदाय की सतगुरू माता सविंदर हरदेव के देहांत पश्चात उनकी सुपुत्री के सहयोग भरे कुछ शब्द पेश हैं

Advertisements

You left us Once again!

With sadness in the heart We bid thee a farewell You followed the footsteps Of Babaji a bit too soon And left a second vacuum To our hurting hearts You are gone physically But shall live on forever in our thoughts