मॉं तेरी याद

कुछ तुम्हारी शिकायत व डाँट सुन सकूँ , कुछ अपने गिले शिकवे कह सकूँ , साँझा कर लें फिर से वे ढेरों सित्तम, कुछ हंस कर, कुछ आँसू बहाकर तुम हम.........

तुम्हारा जन्मदिन

तेरी याद जो आई मेरी ऑंखें ढबढबाईं कुछ ख़ास है आज का दिन आज के दिन मनाते तुम्हारा जन्मदिन मगर अब वही दिन बन कर रह गया याद का दिन तुम जो रूठ चलीं जहाँ से ढूँढती हूँ तुम्हारे निशाँ से वो छोटी छोटी बातें, यादें बन समेट लेती हैं एक आलिंगन बन हर क्षण … Continue reading तुम्हारा जन्मदिन

वृक्षारोपण Vriksharoparn

पढ़ें मंत्र, श्लोक उच्चारण करें धरती मॉं की गोद में वृक्षारोपण करें....... वृक्षो रक्षती रक्षिता: की प्रार्थना करें........

स्थिरता Sthirta

जीवन केवल एक कर्म क्षेत्र है अभिनय निभाना केवल धर्म है...... ....... जो आया है उसको जाना ही होगा यह जान समझ जीवन जीना होगा.......