यह इमारतों की है बस्ती!

यह इमारतों की है बस्ती , दूर तलक ईंट पत्थर की हस्ती ! आकाश को ज्यूँ चूमने लगतीं , लम्बी इमारतों की आवारागर्दी! चाहे दिन हो गर्म या हो मौसम में सर्दी , इन लम्बी रहगुज़र में आबादी पलती! ढलती धूप को शांत सा साया, जाने कितनों  के मन को भाया ! आँच दिखाकर हल्की व ठंडी, धूमिल किरनों की सरपरस्ती ! चमक बिखेर मकानों के गिर्द , जैसे स्वयं को उन पर ओढ़ती! इस बस्ती की बात ही निराली , ज्यूँ जादूगर की माया नगरी ! कारों बसों के कोलाहल संग, एक अजब सी ऊर्जा उपजी! हैडलाइटों की सारी झिलमिलाहट , बिल्डिंगों की खिड़कियों पर बरसती !

मॉं की सूरत

उसने कहा देख कर तुम्हें  याद आती है तुम्हारी माँ की और मैं फूली न समाई ह्रदय कुछ गद गद सा हुआ  मामीजी भी बोली मुझे देख तुम तो साक्षात अपनी मॉं दिखती हो मन ही मन प्रसन्नता जागी और मैं इतराई खुद पर आईना जो देखती हूँ जाकर झलक उसकी ही सामने आती है  वह मॉं जो छोड़ चली जहाँ को अपनी ही सूरत में ख़ूबसूरती बन पनपती है  उसकी सूरत बनी मेरा अभिमान व अनजाना अनकहा स्वाभिमान उसकी सूरत से ही मिलती मुझे पहचान वर्ना शायद मेरी हस्ती रह जाती बेनाम सिकीलधी 

संस्कार Sanskar

संस्कार  वे कहते हैं कुछ सुना दो अपने संस्कारों की कथा सोच में पड़ गई यकायक, मन में जागी एक व्यथा  कुछ ग्लानि, कुछ मंद मुस्कान दोनों का अहसास हुआ  चलो सुनाती हूँ सबको, दूर कर अब अपनी यह दुविधा  पहले पले थे कुछ हम, अपने बुजुर्गों के मत पर राह चुनी उनके सिखलाए हुए संस्कारों के पथ पर मगर परिवर्तन को संसार का नियम मान कर अब चलते हैं हम अपने ही बच्चों की चुनी राह पर भूल गई कब, कैसे जग में उपजी यह नई प्रथा  बड़ों का कहना मानते, छोटों को मानने की मिली सदा जी जी करते,खुशामद कर अब हम सब जीते हैं  अपनी ही औलाद के आगे हम नतमस्तक रहते हैं  मॉं ने सिखाया था, भोजन पकाते हुए न चखते है  उसको स्वच्छता पूर्वक पहले ईश्वर को अर्पित करते हैं  मगर बच्चों के नख़रों से हम इतना डर जाते हैं  पकाते हुए, परोसते हुए, हम पहले चख कर देखते हैं  पिता ने सिखाया था, बेवजह के खर्चे न करने चाहिए  जितने की हो आवश्यकता, उतना ही उपयोग में लाइये  परन्तु अब एक नया समाज है, जहां होड़ करना एक अदा है दिखावे का जीवन, बे सिर पैर लालच वाली सभ्यता है  दादी के सिखलाए संस्कारों की ओट लिए हम बड़े हुए सुबह सवेरे जल्दी उठ कर, हर दिन पहले नहाए धोए प्रभु का व अपने बड़ों का आशीर्वाद ले निवाला ग्रहण किया और अपनी औलाद को दिन चढ़े तक सोने का संस्कार दिया  रात को जल्दी सोते थे, तो ऑंख ब्रह्म पहर खुल जाती थी  अब हम देर रात तक टीवी देख, या फिर पार्टी कर थकते हैं  सुबह को भजन कीर्तन समय का दुरुपयोग सा लगता है  हम बच्चों के आलस में रंग, अपनी दिनचर्या बदलते हैं  मगर इस बदलाव में एक ताज़ा कशिश सी भी दिखती है  अब हम भी सोशल मीडिया पर, अपने गुणगान करते हैं  न किया बखान कभी जिस मॉं के हाथों बने पकवानों का आज उसके सिखाए व्यंजन पका, हम इतराया करते हैं  चाचा, मामा, बुआ व फूफा अब सब पराए लगते हैं  मगर अपने जने इन बच्चों पर हम जान क़ुर्बान करते हैं  सुबह से शाम, हर दिन बस उनकी ही दिनचर्या का ध्यान  घर जो पहले घर लगते थे, अब बन गए हैं मकान  नन्हे मुन्नों की मुस्कान पर बलिहारी लेने की गई आदत अब तो बस उनकी हर अदा की फ़ोटो लेने की मिली तबियत  कितनी ख़ुशी मिलती है जब हम नया स्टेट्स बदलते हैं  अपने जीवन की कोई झलक, बेझिझक प्रकट करते हैं  दूर देश बैठ अब हम अपनों से वर्चुअल ही मिल जाते हैं  क्योंकि छुट्टियों के दिनों में तो हम बच्चों संग घूमने जाते हैं  यह नई संस्कृति हम में एक नयापन संचारित करती है  अब साठ के हो, हम बूढ़े नहीं, मदमस्त जवाँ से दिखते हैं  कल हमें केवल अपने आदरणीय जन ने था सिखलाया  मगर आज हमने अपने भविष्य को नया साकार दिया  हमें कोई शर्म महसूस न होती जब बच्चे सिखलाते हमें  उनकी ज्ञानवर्धक बातों ने हमारी सोच को नया आकार दिया  संस्कार कोई हो, उतना भी बुरा कभी न होता है  हमारा अपना दृष्टिकोण ही, हमारी सभ्यता बनता है  न करें बुराई किसी की, अपनी सच्चाई में संतुष्ट रहें  बस यही गुण अपना कर, न किसी जीव की हत्या करें आज आप हम जैसे भी हैं,प्रसन्न चित्त हो कर जीएँ  मान सम्मान बड़ों छोटों का, आदर सहित एक सा करें  … Continue reading संस्कार Sanskar

मेरी सखी

  प्यारी बिन्दू कल रात तुम आई सपने में मेरेमेरे ह्रदय के थे खिल उठे कपोलेतुम्हारे बालों में कान के पीछे वह फूलजामुनी और नारंगी वह फूलकितनी सुन्दर दिख रही थी तुमहम दोनों ने बाँहों में बाँहें पकड़बहुत देर तक एक साथ डाँस कियाडेरों बातों का ख़ज़ाना था खोलाऔर सब से अच्छी बात यह थीकि … Continue reading मेरी सखी

वर्ल्ड पेरेन्ट्स डे

वो मना रहे वर्ल्ड पेरन्ट्स डे कहते करो आदर मॉं पिता का नहीं जानते दुनिया के कुछ लोग अपनी सभ्यता रख कर कायम प्रतिदिन देते आदर माता पिता को उनके कर चरण स्पर्श करते दिन का आरम्भ रखते उनको स्वयं संग सदा कर सकते अपने बचपन की भरपाई न मगर करते परवरिश उनकी जी जान … Continue reading वर्ल्ड पेरेन्ट्स डे

वो गुज़र गया

कल शाम सोशल मीडिया पर देखा  एक चेहरा, जिसको देख अचानक  दिल का एक सोया हिस्सा धड़का  वह उस का चेहरा था… वर्षों बाद यकायक उस तस्वीर को देख एक चलचित्र की तरह बहुत कुछ…. जाने क्यों मस्तिष्क भीतर घूमने लगा शोक समाचार था…. वो गुज़र चला था, अलविदा कर गया था कई घिनौनी यादें फिर लौट आईं थीं  समझ ही न आया कैसा बर्ताव करूँ  राहत की साँस लूँ या शोक मनाऊँ  कहते हैं जाने वाले के बारे में अच्छा ही बोलो मगर, यह मन है कि बग़ावत सी करता है  वह मेरा अपना नहीं था, बिलकुल नहीं था मगर इतना ग़ैर भी तो नहीं था  आख़िर वही तो था…. जिसने मेरे कोमल जिस्म को कुरेदा था उसकी घिनौनी हरकतों कि जानिब  मेरा बचपन महफ़ूज़ ही न था उसका नाम सुनते ही बेस्वाद ख़्याल आते है  नफ़रत की है उससे बड़े जी जान से फिर उसके मौत की ख़बर जाने क्यों  उसकी आत्मा के सुखी होने की दुआ माँगती है  दिमाग़ की जद्दोजहद ने किया बेक़ाबू  एक बार फिर महसूस हुई … मुझे मेरे ही जिस्म से उसकी बदबू  क्या ये सोचना कोई पाप है  अच्छा हुआ कि वो गुज़र गया सिकीलधी

उसकी आँखें / Uski Aankhein!

https://anchor.fm/sikiladim/episodes/Uski-Aankhein-e1jg95q उसकी आँखें उसकी आँखें कुछ ख़ामोश  कुछ नम उसके अपनों ने ही शायद ढाया सितम  जाने अनजाने में ही सही, उसने ओढ़ ईश्वरीय चोला इच्छा पूर्ति की परिवार जनों की  अपनी तमन्नाओं को रख ताला बन्द  वह पाँच लाख वाला महँगा लहंगा  बिटिया को दिलाना  जिसके बोझ तले निकला सा जाए है दम वह बहुरानी को नया नेकलेस  सेट दिलवाना  जिसके हीरों की दमक से आती  वाह की चमक  वह बेटे की नई कार की फ़रमाइश  माडल नया ख़रीद  उसके अलग घर का सपना पूरा कर घिस गई गर्दन  दामाद को भी चाहिए महँगी वाली घड़ी कैसे न देगा?  बेटी की कर के विदाई सोचा,अब खर्चा  कुछ तो होगा कम पोती भी बाँहों में झूल माँगती तोहफ़ा  दिखा कर अल्हड़ पन दादा तो न नहीं करेंगे, चाहे जेब में हो या न हो दम पोता भी कालेज की फ़ीस की देता दुहाई  दादा पे रख उम्मीद  बाइक का लेटेस्ट माडल है माँगता  बन गई एक और रसीद जब फादर्स डे आता , रेस्टोरेन्ट में जागर  मनाया जाता  मगर उस पिता की खुद की इच्छाओं पर किसी का ध्यान न जाता पोती पास आ खेलने से कतराती  समय न होने का बहाना बनाती पोता बूढ़े हो रहे दादा से दूर जा टेनिस व फुटबॉल का मैच देखता उसे भी अच्छा लगता, यदि उसके संग बैठ मैच वो देखता पोती से नई फ़िल्म की कहानी सुनकर शायद मन बहल जाता बेटी, बेटे व बहू से तो आशा रखी ही न जाती अकेले बैठ तन्हाई में पत्नी की याद उसे बहुत सताती उसकी ऑंखें कुछ ख़ामोश  कुछ नम जीवन में हैं देख लिए हर पल बदलते लोगों के ढंग पिताजी सुन के, पापा या डैडी सुन के … Continue reading उसकी आँखें / Uski Aankhein!

प्रेम से रहो!

https://videopress.com/v/CM74pns4?resizeToParent=true&cover=true&preloadContent=metadata&useAverageColor=true जीना है जब तक. क्यों न करे मोहब्बत ! रखें भाई चारा, न लें किसी की तोहमत! यादों की छोड़ छाप जहां में, ख़ुशनुमा करें खुद की क़िस्मत! आपसी नाता निभाएं , ईश्वर की मान नेमत! सिकीलधी