हिन्दी दिवस : Hindi Divas

भाषा न मात्र एक बोल चाल होती है! वह तो देश की संस्क्रती की अभिलाषा होती है! अपने संस्कारों का प्रतिबिंब, अति सम्माननीय होती है! राष्ट्र भाषा किसी भी राष्ट्र का गौरव चिन्ह होती है!

यादें

चाहा था समेट लूँ यादों के धागे पिरो लूँ बीते कल के कुछ मोती मगर कमबख़्त दिल दे गया धोखा हर याद पिरोने से पहले कर गया दगा़ आँखों से बहने लगी एक एक याद गुज़रे समय की हूक करती फ़रियाद न बुला! न रुला! एै दिल ए नादान मुझे अतीत बन कर ही रहने … Continue reading यादें

कर गए चलाना

  मीठी सी मुस्कान वह प्यारी बहुत दिलों को देती दिलदारी चेहरे की मासूमियत झलकती गम्भीर सी सोच के तले कोटू अन्कल वह बातें प्यारी याद सदा रहेंगी न्यारी बहुत अचानक किया चलाना निरंकार की शरण था जाना वो बचपन के छुट्टियों के दिन जब मनु व रीटा हांगकांग आते वह आपका हर रात हमारा … Continue reading कर गए चलाना