प्रेम से रहो!

जीना है जब तक.

क्यों न करे मोहब्बत !

रखें भाई चारा,

न लें किसी की तोहमत!

यादों की छोड़ छाप जहां में,

ख़ुशनुमा करें खुद की क़िस्मत!

आपसी नाता निभाएं ,

ईश्वर की मान नेमत!

सिकीलधी

2 thoughts on “प्रेम से रहो!

Leave a Reply to Madhusudan Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s