लौट आओ

Z1A7A0F9C-4CB2-4775-A6F3-A4D6E5A08125
जहाँ रहो तुम, ख़ुश प्रस्सन रहो
प्यारे सोनू भैया हमारे, जीते रहो
आज तुम्हारे जन्मदिवस पर
हम सब परिवारजन तुमको याद करें
एक बार तो मुड़ कर देख लो प्यारे
बल्लैयॉं  ले हम तुमको मन्नालें
कहाँ छुप कर जा बैठे हो तुम
जाने हम सब से क्यों रूठे तुम
एक झलक तो अब दिखला दो
मॉं अपनी पर रहम तो कर लो
पत्नी तुम्हारी  निसदिन बाट निहारे
बेटों के पापा कहाँ जा बसे हमारे
बहने आज भी चाह में जिए जाती हैं
कब राखी बंध्वाएेंगे भैया प्यारे
पिता तो वर्षों से चुप्पी साधे
सबको ढाढ़स बँधाते टीस दबा कर
छोटे भाई को दे सब ज़िम्मेदारी
कहाँ की कर ली तुम ने तय्यारी
अब तो लौट आओ सोनू प्यारे
परिवार सगरा तुमको पुकारे
जाने जा बसे हो तुम किस देश
भा गया तुमको कौन सा परदेस
घर की याद न तुम्हें कभी सताती
बच्चों की क्या याद न तुम्हें रूलाती
एैसा क्या था गुनाह हम सब का
जो तुम ने हम सब को है भुलाया
सिकीलघी
82472A43-9DE8-4CC3-89F9-8AE61C9C8B0D
Sonu as he looked like in 2007

10 thoughts on “लौट आओ

  1. बहुत ही दर्दभरी दिल को छूती कविता।
    जाने जा बसे हो तुम किस देश

    भा गया तुमको कौन सा परदेस

    Liked by 1 person

  2. हा।ऐसी कविता लिखने में दिल से शब्द नही खून बरसते हैं।ये कविता नही दिल की तड़प है।2007 और 2019 क्या कहें।

    कितने पतझड़ बीत गए,
    आए कितने मधुमास
    तुम भी आ जाते,
    जिंदा मन में अब भी आस
    अब तो आ जाते।
    मौसम आते-जाते,हरपल तेरी याद सताते,
    सावन आंखों से ना जाते,
    निस दिन जीवन में बरसात,
    अब तो आ जाते,
    कैसे लिख दूँ क्या हालात,
    अब तो आ जाते।

    Liked by 1 person

  3. मेरे छोटे भाई का नाम सोनू है , इसलिए बेहतरीन रचना कुछ और करीब लगी। दिल को छू गयी 😢😢😢

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s