ऐ मॉं

यादों का उमड़ पड़ा दरिया
ऐ मॉं जब जन्मदिन तेरा आया
बहुत जी चाहा बतिया लूँ तुम संग
मगर तुम्हें कहीं आस पास न पाया

नयन भी अब तो थक चले हैं माँ
स्वप्न में ही सही पर आ तो जाओ मॉं
कुछ मीठी बातें कह लूँ , कुछ सुन लूँ
कुछ पल तुम्हारे संग बैठ लूँ ऐ मॉ

नींद भी अब तो पहले सी आती नहीं
काश तू आकर फिर लोरी गा दे ऐ मॉं
तेरे आग़ोश मैं सिमट कर समां जाऊँ
दुनिया से फिर बेपरवाह बना दे ऐ मॉं

सिकीलधी

 

Advertisements

3 thoughts on “ऐ मॉं

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s