हैप्पी न्यू ईयर

IMG_2511

 

सब कहते हैं हैप्पी न्यू ईयर

मगर क्या है यह हमारा नव वर्ष

पश्चिमी सभ्यता में लुते पुते हम

पहली जनवरी को मनाने लगे हैं।

 

वर्ष की शुरूआत भी कुछ एैसी

रातभर जागे नाचे,सुबह गवॉंए सो कर

न पूजा, न पाठ, न आरती का दिया,

न मस्तिष्क पे टीका, न मंगल कामना।

IMG_2509

बेड़ा गर्क कर निज सभ्यता का

जा पहुँचे हम क्लब में नाचने

मस्त मगन कुछ एैसे झूमते

होश न रहता, हम गिरते पड़ते।

 

शिष्टाचार भूल हाथ न जोड़े हमने

न ही चरण स्पर्श किया अपने बड़ों का

आलिंगनबद्ध हुए जाते हम सब बेगानों से

अपनों को छोड़ ग़ैरों से गले मिलते।

IMG_2513

नव वर्ष का आरम्भ निद्राहीन करते

वातावरण प्रदूषित करते जाते

अब यही सभ्यता सहकारी बन गई

भूल चले निज संस्कारों को।

 

परिवार जनों बीच रहना न भाता

बोझ से लगते पिता और माता

मित्रों का संग जी को लुभाता

पैसे वाले ही लगते अन्नदाता।

सिकीलधी

IMG_2512

 

Photo credits: Google images

Advertisements

2 thoughts on “हैप्पी न्यू ईयर

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s