सतगुरू स्वरूप

सतगुरू स्वरूप

FB_IMG_1533742197945

पापा गए तो मॉं का सहारा था
चट्टान के मानिंन्द एक आसरा था

जब वह ढीली पड़ जातीं थीं
तो बाबाजी हिम्मत बँधाते थे

तेरा भाणां मीठा लागे वाला
सबक़ याद दिलाते थे

आहिस्ता कई बरस बीते,
उम्र ने भी अपनी करवट बदली

नाज़ुकता ने स्वास्थ्य सहलाया
गती में कुछ शीतलता आई

अचानक एक दिन वह ख़बर आई
सब ने दॉंतों तले ऊँगलियॉं दबाईं

बाबाजी हरदेव सिंह का हुआ चलाना
मॉं का दिल बन गया एक वीराना

जिस गुरुदेव से मिलती सदैव प्रेणना
उनका हुआ यकायक जहाँ से जाना

ठेस बहुत लग गई थी दिल को
फिर भी दुनिया से पड़ा नाता निभाना

दुख का समन्दर घेरे ह्रदय को
मुख पर हँसी फीकी सी आती

फिर एक दौर एैसा भी आया
दुख का अथाह समन्दर लाया

मॉं ने बिस्तर एैसा जा पकड़ा
फिर उठने का मौक़ा ही न आया

पीड़ा इतनी जो हम से देखी न जाती
मॉं का स्वर शांत था, नैनों से कुछ कह जाती

कुछ ही सप्ताह भर की बात थी
फिर नेत्र भी थम गए, ख़त्म हुई कहानी

मूँद ली सदा के लिए ऑंखें मॉं ने
तब कहीं तकलीफ़ से राहत पा पाईं

दर्द की तो तब बस हद ही हो गई
पहले बाबाजी और फिर मॉं चल बसीं

धीरज बँधाने हम सब को फिर एक दिन
सतगुरू माता सविंदर ख़ुद चल कर आंईं

FB_IMG_1533742109418

बातें मॉं संग बिताए कई लम्हों की करके
यादों का पिटारा भर कर थी वह लाईं

ज़रा कुछ सुकून सा मिला था
एक अजब सा तनाव कम हुआ था

अचानक से अब लगता था मॉं उसी रूप में मिलेंगी
लेकिन वह चाहे अनचाहे बनी बस एक परछाईं

सम्भलने भर का ही कुछ समय मिला था
फिर सतगुरू माता ने भी ले ली बिदाई

राहत पाकर अपनी अस्वस्थ देह से
अब वह भी ईश्वरीय पनाह के भरोसे

सदा के लिए मुक्त आत्मा बन कर
सुदीक्षा बहन को वसीयत सौंप कर

निरंकारी जगत की माता बना कर
राहत से यह जहाँ को तज पाईं

अब है बेइन्तहा इस दुख से उभर कर
सुदिक्षा सतगुरू रूप में सब के लिए आईं

गुरबचन राजमाता की यह वंशज
हरदेव सविंदर की नन्ही कोमल कली

शहनशाह जी का यह नया अवतार
नारी शक्ती का चिन्ह लेकर आकार

नूतन विचार व न्यूनतम आधयतमिक्ता संग
करेगी शांती व एकता का फिर एकु प्रचार

गौरव है अब से वह हम सब के दिल की
जगत जंजाल से हमको यह लेगी तार

एक तू ही निरंकार।

एक तू ही निरंकार।

एक तू ही निरंकार।

सिकीलधी

Advertisements

2 thoughts on “सतगुरू स्वरूप

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s